इमैनुएल मैक्रों के बयान के बाद फ्रांस छोड़ने की खबरों को इस फुटबॉलर ने बताया अफवाह

0
14


नई दिल्ली: मैनचेस्टर यूनाइटेड (Manchester United)के मिडफील्डर पॉल पोग्बा (Paul Pogba) ने बीते सोमवार को उन मीडिया रिपोर्ट्स को गलत बताया है जिनमें कहा गया था कि फ्रांस (France) के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों (Emmanuel Macron) के ‘इस्लामिक आतंकवाद’ वाले विवादित बयान के बाद ये फुटबॉलर फ्रांस छोड़ देंगे.

सोशल मीडिया पर पोग्बा का जवाब
पोग्बा ने इंस्टाग्राम पर मीडिया रिपोर्ट्स को शेयर करते हुए लिखा, ‘मेरे बारे में जो खबर चल रही है वो पूरी तरह बेबुनिया है, मैंने ऐसा न कभी कहा और न कभी सोचा, मैं हैरान, निराश और गुस्से में हूं. कुछ मीडिया सूत्रों ने फ्रांस के इस संवेदनशील मुद्दे को लेकर फेक हेडलाइन बनाने के लिए मेरा इस्तेमाल किया. इस काम के लिए मेरे धर्म और फ्रेंच नेशनल टीम को घसीटा गया.’

 

 

So The Sun did it again… absolutely 100% unfounded news about me are going around, stating things I have never said or thought. I am appalled, angry, shocked and frustrated some “media” sources use me to make total fake headlines in the sensible subject of French current events and adding my religion and the French National Team to the pot. I am against any and all forms of terror and violence. My religion is one of peace and love and must be respected. Unfortunately, some press people don’t act responsibly when writing the news, abusing their press freedom, not verifying if what they write/reproduce is true, creating a gossip chain without caring it affects people’s lives and my life. I am taking legal action against the publishers and spreaders of these 100% Fake News. In a quick shout out to The Sun, who normally could not care less: some of you guys probably went to school and will remember how your teacher said to always check your sources, don’t write without making sure. But hey, seems you did it again and on a very serious topic this time, shame on you! #fakenews #AllezLesBleus @equipedefrance

A post shared by Paul Labile Pogba (@paulpogba) on

‘मेरा मजहब अमन और मोहब्बत सिखाता है’
पोग्बा ने आगे कहा, ‘मेरा मजहब अमन और मोहब्बत सिखाता है और इसका सम्मान होना चाहिए. बदकिस्मती से कुछ मीडियाकर्मी खबर लिखते वक्त जिम्मेदारी से पेश नहीं आते हैं और अपनी प्रेस फ्रीडम का गलत इस्तेमाल करते हैं. वो इस बात की जांच नहीं करते कि जो बात वो लिख रहे हैं, वो सही है या नहीं. ये लोग अफवाह तैयार करते हैं, इस बात की परवाह किए बगैर कि ये लोगों की जिंदगी पर कैसा असर डालेगा.’

कानूनी कार्रवाई करेंगे 
पॉल पोग्बा ने कहा है कि,  ‘इस 100 फीदसी फेक न्यूज को छापने और फैलाने वालों के खिलाफ मैं लीगल एक्शन लेने जा रहा हूं, खासकर ‘द सन’ के खिलाफ जो आमतौर पर किसी बात की परवाह नहीं करता. तुम में से कई लोग स्कूल गए होंगें, याद करो कि तुम्हारे टीचर ने तुमसे कहा होगा कि हमेशा सूत्रों की जांच करो. बिना तसल्ली किए कुछ भी मत लिखो. लेकिन तुमने ऐसा इस बार एक गंभीर मुद्दे को लेकर किया. शर्म आनी चाहिए तुम्हें.’

फ्रांस के राष्ट्रपति का विवादित बयान
पोग्बा को लेकर ये अफवाह तब फैलाई गई थी जब फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने इतिहास के दिवंगत शिक्षक को श्रद्धांजलि देते हुए कहा था कि विवादित बयान देते हए कहा था, ‘इस्लाम (Islam) एक ऐसा धर्म है जिससे आज पूरी दुनिया में संकट में है.’ मैक्रों के इस बयान का पूरी दुनिया में विरोध हो रहा है.
(इनपुट-Reuters)





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here