Sachin Tendulkar ने दी टीम इंडिया को अहम सलाह, बताया इस ऑस्ट्रेलियाई स्टार को रोकने का मूल मंत्र

0
3


नई दिल्ली: महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) का कहना है कि स्टीव स्मिथ (Steve Smith) की गैर पारंपरिक तकनीक के कारण भारतीय गेंदबाजों को उन्हें थोड़ी बाहर गेंदबाजी करनी होगी. उन्होंने भारतीय तेज गेंदबाजों को सलाह दी कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आगामी सीरीज के दौरान इस बल्लेबाज को ‘पांचवीं स्टंप’ की लाइन पर गेंदबाजी करें.

गेंद से छेड़छाड़ प्रकरण में संलिप्तता के कारण भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच 2018-19 में हुई पिछली सीरीज से बाहर रहे स्मिथ इस बार इसकी भरपाई के लिए तैयार होंगे. स्मिथ ने भारत के खिलाफ छह टेस्ट शतक जड़े हैं.

तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने कहा, ‘स्मिथ की तकनीक गैर पारंपरिक है. सामान्यत: टेस्ट मैचों में हम गेंदबाज को ऑफ स्टंप या चौथे स्टंप की लाइन के आसपास गेंदबाजी करने के लिए कहते हैं लेकिन स्मिथ मूव करता है इसलिए शायद गेंद की लाइन चार से पांच इंच और आगे होनी चाहिए’.

उन्होंने कहा, ‘स्टीव के बल्ले का किनारा लगे इसके लिए चौथे और पांचवें स्टंप के बीच की लाइन पर गेंदबाजी करने का लक्ष्य बनाना चाहिए. यह कुछ और नहीं बल्कि लाइन में मानसिक रूप से बदलाव करना है’.

तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने कहा, ‘मैंने पढ़ा है कि स्मिथ ने कहा है कि वह शॉर्ट पिच गेंदबाजी के लिए तैयार है. संभवत: वह उम्मीद कर रहा है कि गेंदबाज शुरुआत से ही उसके खिलाफ आक्रामक रवैया अपनाएंगे. लेकिन मुझे लगता है कि ऑफ स्टंप के बाहर की तरफ उसकी परीक्षा ली जानी चाहिए. उसे बैकफुट पर रखो और शुरुआत में ही गलती करवाओ’.

अंदर की ओर स्विंग होती गेंद क्या अधिक प्रभावी नहीं होगी इस बारे में पूछने पर तेंदुलकर ने कहा, ‘इसके लिए यह देखना होगा कि गेंद कितनी स्विंग कर रही है. ये सभी चीजें मायने रखती हैं. आप लार का इस्तेमाल नहीं कर सकते इसलिए अगर विकेट अधिक जीवंत है तो यह अलग मामला है. इंग्लैंड में टेस्ट मैचों के दौरान कभी कभी ड्यूक गेंद काफी स्विंग नहीं करती’.

उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि वे विकेट पर अधिक घास छोड़ेंगे या नहीं जिससे कि गेंद अधिक मूव करे. अगर गेंद स्विंग नहीं करती है तो शायद आपको स्विंग होती यॉर्कर देखने को भी नहीं मिले’.

Hardik Pandya की मंगेतर Natasa Stankovic ने प्रेग्नेंसी के बाद कैसे घटाया वजन?

भारत के बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी अपने पास बरकरार रखने की अच्छी संभावना जताते हुए तेंदुलकर ने कहा, ‘दो सीनियर खिलाड़ियों की टीम में वापसी और लाबुशेन की मौजूदगी से बल्लेबाजी क्रम काफी बेहतर हुआ है. यह अधिक प्रतिस्पर्धी सीरीज होगी और मुझे यकीन है कि भारत इसके लिए तैयार है’.

तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने सहमति जताई कि तीन टेस्ट मैचों में विराट कोहली के नहीं खेलने से अंतर पैदा होगा लेकिन यह अन्य खिलाड़ियों को मौका देगा. कोहली अपने पहले बच्चे के जन्म के लिए पहले टेस्ट के बाद भारत वापस आएंगे.

उन्होंने कहा, ‘इसमें कोई संदेह नहीं कि विराट के नहीं होने से बड़ा अंतर पैदा होगा लेकिन साथ ही हमारे पास जिस तरह की बेंच स्ट्रेंथ और प्रतिभा उपलब्ध है उसे देखते हुए यह किसी अन्य के पास खुद को स्थापित करने का अच्छा मौका होगा’.

तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने कहा कि टेस्ट मैचों में चेतेश्वर पुजारा की मौजूदगी बेहद महत्वपूर्ण होगी.

उन्होंने कहा, ‘मैं चेतेश्वर पुजारा का नाम विराट के साथ रखूंगा. ये दोनों खिलाड़ी सबसे अधिक समय तक साथ खेले हैं. अजिंक्य रहाणे भी है लेकिन अंतिम एकादश में उसे लगातार इतने मौके नहीं मिले जितने पुजारा और विराट को मिले’.

(इनपुट-भाषा)





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here