Sunil Gavaskar ने लगाया बड़ा आरोप, Team India में मतभेद की तरफ किया इशारा

0
7


नई दिल्ली: पूर्व क्रिकेटर सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) ने मौजूदा भारतीय टीम में मतभेद होने की ओर इशारा किया है. उन्होंने कहा है कि रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) और टी नटराजन (T Natarajan) जैसे गेंदबाजों को लेकर टीम में ‘अलग खिलाड़ियों के लिए अलग नियम’ हैं. 

सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) ने साथ ही कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) पर भी कटाक्ष किया, जिन्हें अपने बच्चे के जन्म के कारण ऑस्ट्रेलिया से भारत लौटने की अनुमति मिल गई, जबकि तेज गेंदबाज टी नटराजन जो कि आईपीएल प्लेऑफ के दौरान पिता बने थे, अभी भी अपनी बेटी को नहीं देख पाए हैं.

यह भी पढ़ें- यह भी पढ़ें- ICC T20 Ranking: Virat Kohli को हुआ फायदा, KL Rahul टॉप-3 में शामिल

गावस्कर ने कहा, ‘बहुत लंबे समय तक अश्विन को अपनी गेंदबाजी क्षमता के कारण नुकसान नहीं हुआ है, जिसमें केवल अभद्र का ही संदेह होता है. लेकिन अपनी स्पष्टवादिता के लिए और मीटिंग में अपने मन की बात कहने के लिए, जहां ज्यादातर लोग सहमत नहीं होने पर भी सिर हिलाते हैं.’

उन्होंने कहा, ‘कोई भी अन्य देश एक ऐसे गेंदबाज का स्वागत करेगा, जिसके पास 350 से अधिक टेस्ट विकेट हों और वह 4 टेस्ट शतक को भी न भूलें. हालांकि, अगर अश्विन (Ravichandran Ashwin) एक मैच में विकेट नहीं लेते हैं तो उन्हें अगले मैच से बाहर कर दिया जाता है.

सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) ने आगे कहा, ‘ये हालांकि स्थापित बल्लेबाजों के लिए नहीं होता है. भले ही वे एक खेल में असफल हो जाते हैं और उन्हें एक और मौका मिलता है. लेकिन अश्विन के लिए दूसरा नियम लागू होता है.’

गावस्कर ने साथ ही कहा कि टी नटराजन (T Natarajan) को सिर्फ एक नेट गेंदबाज के रूप में वहां रहने के लिए मजबूर किया गया है, जबकि सीमित ओवरों की सीरीज, जिसका वह हिस्सा थे, लगभग एक पखवाड़े पहले समाप्त हो गया था.

उन्होंने कहा, “एक और खिलाड़ी, जिसे लेकर नियम हैरान करेगा. लेकिन निश्चित रूप से वह इसके बारे में बोल नहीं सकता, क्योंकि वह नया है. यह टी. नटराजन हैं. बाएं हाथ के यॉर्कर तेज गेंदबाज, जिन्होंने टी 20 में शानदार शुरुआत की थी और हार्दिक पांड्या ने पहली बार टी 20 सीरीज पुरस्कार को उनके साथ साझा की थी.

गावस्कर ने कहा, ‘नटराजन आईपीएल प्लेऑफ के दौरान पहली बार पिता बने थे. उन्हें सीधे यूएई से ऑस्ट्रेलिया ले जाया गया और फिर उनके शानदार प्रदर्शन को देखते हुए उन्हें टेस्ट सीरीज के लिए वहीं बने रहने के लिए कहा गया था, लेकिन टीम के एक हिस्से के रूप में नहीं, बल्कि एक नेट गेंदबाज के रूप में.’
(इनपुट-आईएएनएस)





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here